रविवार, 7 दिसंबर 2008

जश्न मनाइए.....

चुप हैं क्यूँ, अब तो नाचिए, गाइए, जश्न मनाइए मुरझाये हुए चेहरों पे हँसी तो ज़रा लाइए क्या हुआ जो राशन न हुआ सस्ता पेट्रोल में पूरी तलिए, डीज़ल में सब्जी पकाइए

3 टिप्‍पणियां:

  1. जय हो अब बता रही हैं जब खाना बन गया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसा वक्त भी आएगा
    जब राम हवलाई

    जलेबियाँ डीज़ल में
    शौर ऊर्जा पर बनाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब्जी के भाव भी तो बढ़ गए है..

    उत्तर देंहटाएं