शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

जन्म एक कविता का...

जबड़े कस जाते हैं
मुट्ठी भिंच जाती है
माथे पर असंख्य सिकुड़नें 
तैर जाती हैं 
शिराओं में रक्त की जगह 
बैचेनियाँ दौड़ने लगती हैं 
तब कहीं जाकर 
जन्म लेती है 
एक अदद कविता. 

13 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई कविता का जन्म
    इतना भी
    आसान नहीं है
    वह क्या कविता रचेगा
    जो किसी के दर्द
    किसी की पीड़ा
    किसी के टूटन से
    परेशान नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  2. शिराओं में रक्त की जगह
    बैचेनियाँ दौड़ने लगती हैं
    तब कहीं जाकर
    जन्म लेती है
    एक अदद कविता....बहुत खूब ! शेफाली जी आप जैसे लोग ही इन्टरनेट के जरिये कुछ बदलाव ला सकते है ..आगे भी यु ही लिखते रहे ..धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता की व्यथा को तो एक कवि या कवियत्री ही समझ सकती है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. माफ़ कीजियेगा ये कविता कौन है???

    उत्तर देंहटाएं
  5. arre ye to aapne bataayaa hi nahi ki--"kavitaa kaa birthday kab aataa hain??????"
    wish bhi to karnaa hain.
    thanks.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  6. आक्रोश से जन्म ली कविता ही क्रांति लाती है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता के जन्म की स्थितियाँ देश काल के अनुसार है ।
    रचना की सँरचना के लिए बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मास्टरनी जी,
    क्या कविता लिखी है.... वाकई आक्रोश और विचारों के मंथन से ही कालजयी रचना जन्म लेती है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी हंसते हंसते भी कवि्ता जन्म लेती है

    उत्तर देंहटाएं