शुक्रवार, 28 मई 2010

जिस दिन तुमसे मिलकर लौटी ....

जिस दिन तुमसे मिलकर लौटी 
 मैं कविता में ढलने लगी थी|
 
विचारों को मिल गए थे पंख
चाय की हर चुस्की के साथ
तुम्हारी कुछ पंक्तियाँ
याद आ गई थीं|
 
आटे में कुछ गीत चुपके से
आकर गुँथ गए थे|
 
नमक मिर्च हल्दी के साथ
चटपटे, रंगीन एहसास
सब्जी की कटोरी में
घुल गए थे|
 
बेशर्म से एहसासों को
झाड़ू से बुहार दिया था|
 
बिस्तर पर बिछाकर  
असंख्य शब्दों की चादर
अनुभूतियों के साथ ही अभिसार
कर लिया था|
 
इस तरह मैंने भी
तुम्हें बिना बताए
तुमसे प्यार कर लिया था|
 

38 टिप्‍पणियां:

  1. यह तो अजब प्यार की गजब कहानी हुई शेफाली जी। बहुत सुन्दर भाव और शब्द संयोजन। वाह।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. दैनिक जीवन और प्रेम अच्छा ताना बाना बुना है आपने ..........

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बार कन्फ्यूजिया गया था के हमारी मास्टरनी जी आज किस मूड में है ......पर यकीन मानिए आपका ये मूड बहुत भाया.....सच में ....
    एक बात साबित हुई...के अच्छा लिखने वाला ही अच्छा व्यंग्य रच सकता है ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. दैनिक जीवन और प्रेम अच्छा ताना बाना बाना बुना है आपने......

    उत्तर देंहटाएं
  5. नमक मिर्च हल्दी के साथ
    चटपटे, रंगीन एहसास
    सब्जी की कटोरी में
    घुल गए थे|
    और फिर उस सब्जी का स्वाद ...

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन शब्द संयोजन के साथ भावों की आकर्षक प्रस्तुति......

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस तरह मैंने भी
    तुम्हें बिना बताए
    तुमसे प्यार कर लिया था

    -गजब!! वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. व्यंग्य जितनी ही सुंदर व प्रभावी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कोमल अहसासों की लजीली सजीली और किंचित मुखर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह....बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति...कोमल से एहसास से सजी हुई....

    उत्तर देंहटाएं
  11. मास्टरनी जी ..........क्या बात है ...आजतो चटपटी कविता परोसी है एकदम मजा आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  12. अगर आप उर्दू सीख लें तो आप के कलम का कोई जवाब नहीं है . वैसे अब भी सुंदर शब्द योजना है . बधाई . http://vedquran.blogspot.com/2010/05/adams-family.html

    उत्तर देंहटाएं
  13. कोई चुपके से आके,
    सपने सुलाके मुझको जगाके,
    बोले कि मैं आ रहा हूं,
    कौन आए ये मैं कैसे जानूं,
    कोई चुपके से आके...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या बात है ...
    आज बिलकुल अलग अंदाज़ ...
    होता है कभी कभी ऐसा भी होता है ...:)
    अच्छा है ये भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. दैनिक जीवन और प्रेम अच्छा ताना बाना बाना बुना है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  16. रसोई ..आटा...सब्जी....और प्यार! एकदम मस्त आइडिया..!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सुन्दर ,रोचक और ...और भी बहुत कुछ ...///पिछली रचनाएं जरूर पढना चाहूँगा

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रेम की सहज व्यापकता का सजीव चित्रण ।
    शेफाली जी . बहुत बोधगम्य रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेशर्म से एहसासों को
    झाड़ू से बुहार दिया था|

    bahut bahut behad sundar abhivyakti

    badhai

    उत्तर देंहटाएं
  20. आईये, मन की शांति का उपाय धारण करें!
    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  21. बेहद अनूठी भावाव्यक्ति है आपकी कविता की..........बहुत अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  22. रचना
    बहुत ही उम्दा है
    सचमुच
    एक कविता की तरह ही ....
    वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  23. आटे में कुछ गीत चुपके से
    आकर गुँथ गए थे|

    नमक मिर्च हल्दी के साथ
    चटपटे, रंगीन एहसास
    सब्जी की कटोरी में
    घुल गए थे|

    मास्टरनी जी कविता पढ़ के सचमुच आनंद आ गया
    आपकी कविता पुदीने और धनिये की तरह महकती रहे रसोई में भी
    रचना के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  24. दिनचर्या इतनी रचनात्मक हो सकती है .......बहुत ही सुन्दर उपमाएं, रचना रस से सराबोर.......

    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  25. बिस्तर पर बिछाकर
    असंख्य शब्दों की चादर
    अनुभूतियों के साथ ही अभिसार
    कर लिया था|
    शेफाली जी आपने कितनी सहजता से यह बात कह दी । सचमुच एक चमत्‍कार पैदा करती है आपकी कविता। बाकी पोस्‍ट आपकी नहीं देखी। पहली बार ही आना हुआ। पर अब आपके फालोअर बनकर जा रहे हैं। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  26. बिस्तर पर बिछाकर
    असंख्य शब्दों की चादर
    अनुभूतियों के साथ ही अभिसार
    कर लिया था|

    इस तरह मैंने भी
    तुम्हें बिना बताए
    तुमसे प्यार कर लिया था|



    शेफाली
    bahut dinon bad ek ghatak aur marak rachna se roobaroo hua hoon ...
    aapke hi shabdon mein kahoon to..
    आटे में कुछ गीत चुपके से
    आकर गुँथ गए....
    नमक मिर्च हल्दी के साथ
    चटपटे, रंगीन एहसास
    सब्जी की कटोरी में
    घुल गए......

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही सुन्दर ,रोचक और बेहद अनूठी भावाव्यक्ति है कविता की

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुन्दर,सुन्दर,सुन्दर हृदयस्पर्शी.....

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत बढ़िया...अजब प्रेम की गजब कहानी

    उत्तर देंहटाएं
  30. वाह...वाह ....वाह...अनूठी अभिव्यक्ति...
    अद्वितीय कविता,जिसका रस सहज ही पाठक ह्रदय तक स्थानांतरित हो जाए...

    बहुत बहुत सुन्दर लगी आपकी यह अप्रतिम रचना...

    उत्तर देंहटाएं