गुरुवार, 9 जून 2011

नव्या को बहिन मिली ...

चार जून को  नव्या की बहिन का इस दुनिया में  आगमन हुआ है  |

37 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्यारी है :) बधाई नव्या को :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. शेफाली बहना,
    अभी अभी घर में बच्चों के लिए बिना कोई वजह रसगुल्ले लेकर आया हूं...

    आते ही ये खुशखबरी वाली पोस्ट पढ़ी...यानि मामा होने की वजह से पहले ही इनट्यूशन हो गया था...

    अब ये भी समझ आ गया कि इतने दिन तुम क्यों ब्लॉग से दूर थी...लेकिन खुशखबरी ने ये सारा मलाल दूर कर दिया...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. wowww..CONGRATULATIONS...हम तो कब से पलक पावडे बिछाए इस खबर का इंतज़ार कर रहे थे .कितनी प्यारी परी सी है बेबी.
    तुम्हें, नाव्या को और घर में सबको ढेर सारी बधाई और शुभकामनाये.
    अपना ख़याल रखना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत बधाईssssssss...हमें भी ...मौसी बनने की :)
    बड़ी प्यारी है बिटिया....ढेरो आशीर्वाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको को और परिवार में सब को बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. फ़रिश्ते का इस दुनिया में स्वागत है. असीम मंगलकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. .हाय रे कितनी प्यारी है..
    एकदम मेरे मुँह से निकल पड़ा ’ भव्या ’ !
    क्या कहती हो.. यह नाम अच्छा लगा ?
    ईश्वर उसे दीर्घ आयु एवं स्वस्थ सार्थक जीवन प्रदान करे !

    उत्तर देंहटाएं
  8. comment will be visible after approval.
    भाई खुशी के मौके पर तो इस बिजूके को हटा दो !

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरी ओर से भी बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. नव्या और आपको बहुत बहुत बधाई ...और शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप सबों को बहुत बधाई .. दोनो बच्‍चों को ऐर सारा प्‍यार !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. शुभकामनाएं, नव्या एवं उसकी नवजात बहिन को शुभाशीष एवं प्यार।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मेरी ओर से भी बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. लो जी कल्लो बात ! नामकरण भी हो गया कन्या रत्न का - भव्या ...और मैं इतनी देर से पहुंचा हूँ. जच्चा-बच्चा दोनों को मंगलकामनाएं. हल्द्वानी कई बार गया हूँ .....इस बार आया तो आपके गाँव का विद्यालय अवश्य देखूंगा.उत्तराखंड के गाँव नहीं देखे अभी तक.
    नव्या, भव्या, कुमायूंनी चेली और ...पूरे परिवार को कन्या रत्नागमन की बधाई ......

    उत्तर देंहटाएं
  15. अच्छा, तो ये बात थी!

    फोन पर बात हुई तो गोल मटोल सा ज़वाब दिया था आपने
    अब पता चला कि यह तो गोल मटोल सी भव्या है!!

    बहुत बहुत बधाई आपके परिवार को

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छा तभी इतने दिनों से मोहतरमा गायब थी। ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ____________________
    आप सभी की खुशियाँ देखके ,
    हम इतना खुश हैं आज |
    कि मन रविशंकर हो गया ,
    और तन बिरजू महाराज ||

    उत्तर देंहटाएं
  18. नव्‍या के लिए दिव्‍या
    दिव्‍यतम अनुभूति के लिए
    अनेक नेक आशीर्वाद
    मिली है खुशियों की
    अप्रतिम सौगात
    तो यह है बात
    अच्‍छी सच्‍ची बात।

    उत्तर देंहटाएं