रविवार, 18 सितंबर 2011

सर्वाधिकार सुरक्षित हैं .....

उनके अनुसार
संसद एक सर्वोच्च
संस्था होती है |
उसकी एक गरिमा होती है | 
और एक मर्यादा भी होती है |
इस पर उन्हें बहुत गर्व है |
और
इसे भंग करने के सारे अधिकार
उनके पास रिज़र्व हैं |
 

10 टिप्‍पणियां:

  1. संसद बनाने वालों के पास कोई अधिकार नहीं..
    बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ताऊओं को समस्त अधिकार जन्मजात प्राप्त रहते हैं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  3. चकाचक है!
    धूमिल ने लिखा है:
    हमारे देश की संसद
    तेली की वह घानी है
    जिसमे आधा तेल है
    और आधा पानी है।
    :)

    उत्तर देंहटाएं