बुधवार, 7 मार्च 2012

चुनाव परिणाम आने के पश्चात् कुछ घिसे पिटे बयान.......

चुनाव परिणाम आने के पश्चात् कुछ घिसे पिटे बयान.......

हमने अपनी हार स्वीकार कर ली है ....

इसके अलावा आपके पास 
बाकी कोई चारा नहीं था 
क्यूंकि 
आपके सिर पे करारी हार 
उनके गले फूलों का 
हार सजा था ..........
 

 हम हार के कारणों का मंथन करेंगे .....
 
हम
हार के कारणों का
मंथन कर रहे हैं
विष ही विष निकल रहा है
चारों ओर से
पी जाए जो फिर
आँख मूँद कर, 
उस
शिव शंकर को
ढूंढ रहे हैं .........

 
हम विपक्ष में बैठेंगे 
 
ऐसा कहना बहुत ज़रूरी है 
ये आपकी मजबूरी है 
क्यूंकि 
जब हार जाते हैं तो बस 
विपक्ष में ही बैठ पाते हैं 
 
 
हम जनता की सेवा करेंगे 
 
सच है यह सोलह आने 
क्यूंकि 
जब बैठे हों गद्दी में तो 
सेवा करने के क्या माने?
 
हम जनादेश का सम्मान करेंगे 
 
जनादेश का हम बहुत सम्मान करेंगे 
पूरे पांच साल तक कैसे 
भला इंतज़ार करेंगे ?
 भिडाएंगे ऐसी जुगत,करेंगे कुछ ऐसा, 
अगले ही साल चुनाव के हालात करेंगे.
 

8 टिप्‍पणियां:

  1. vyang mein topic selection bahut important hota hai... uske baad use ji jaan se nibhaana hota hai...

    pehle ke muqable kamjor.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो भी हो फिलहाल तो हम होली मनाएंगे:) ..आप भी मनाओ .
    हैप्पी होली .

    उत्तर देंहटाएं
  3. इन बेचारों को तो लेखक किसी भी करवट जीने भी नहीं देते ☺

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा हा , बहुत ही बढ़िया !!!!

    मजा आ गया !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. I'm not sure where you're getting your information, but great topic.
    I needs to spend some time learning much more or understanding
    more. Thanks for magnificent info I was looking for
    this info for my mission.

    Also visit my web site erovilla
    Also see my web page > cam portal

    उत्तर देंहटाएं