बुधवार, 4 मार्च 2015

स्मार्ट होली



ट्विटर पर खेली 
जी भर के होली 
मला फेसबुक पर 
अबीर गुलाल 
चिप्स और गुजिया 
वट्सअप पर खाई 
लाइक,कमेंट, स्माइली 
दे दी सबको बधाई 
रंग - बिरंगी सेल्फियां 
प्रोफ़ाइल पर चिपकाई 
मिलावट का रोना नहीं 
ना कमरतोड़ महंगाई 
दुनिया आभासी 
खुशियां आभासी 
आभासी हैं रंग 
संगी नहीं, साथी नहीं 
होली खेल रहे नर - नारी 
अब स्मार्ट फोन के संग । 

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब...यह होली ही अच्छी है न रंग छुड़ाना होगा न घंटों गुजिया बनाना होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  2. रंगों के महापर्व होली की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (06-03-2015) को "होली है भइ होली है" { चर्चा अंक-1909 } पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं