रविवार, 17 मई 2015

दुःख भरे दिन बीते रे भैया

दुःख भरे दिन बीते रे भैया  
नाचो, गाओ, ता ता थैया । 

दुनिया भर का टूर लगायो 
भाषण देकर जी बहलायो 
हर लाइन पर ताली बजवायो 
यदा - कदा जब देश में आयो 
वायदों की जब याद दिलायो 
'जुमला' कह दिया दैया रे दैया ।   

दुःख भरे दिन बीते रे भैया  
नाचो, गाओ, ता ता थैया । 

जगमग - जगमग फोटो खिंचायो 
चमचम - चमचम सेल्फ़ी लगायो 
ढोल पीटो, वंशी बजायो  
झूला झूलो, पींग बढ़ायो 
क्यों न करो तुम गलबहियां 
जब कोतवाल भये सैयां । 

दुःख भरे दिन बीते रे भैया  
नाचो, गाओ, ता ता थैया । 

विदेशों में जलवा ढायो 
फ्रंट पर 'टाइम' के छायो 
ट्विटर, फेसबुक पर लाइक पायो 
हर चैनल तुमरे ही गुन गायो  
पाठ्येत्तर में पूरे नंबर, पर 
पाठ्यक्रम में शून्य आयो । 

अच्छे दिन से तौबा रे तौबा 
दिन बुरे ही भले थे भैया । 

दुःख भरे दिन बीते रे भैया  
नाचो, गाओ, ता ता थैया । 

 
  

4 टिप्‍पणियां: