गुरुवार, 30 अप्रैल 2009

गर्म चुनावी क्षणिकाएँ

 गर्मी के इस मौसम में कुछ एकदम ताजा और गर्म  चुनावी क्षणिकाएं लेकर मैं फिर हाज़िर हूँ .....
 
युवराज की डिग्री पर सवाल उठाने वालों  से ....
 
वे,
जो उसकी डिग्री पर
सवाल उठाते हैं
उसे
नकली और फर्जी
ठहराते हैं
याद क्यूँ नहीं रखते
कि
उसके चरण कमलों में
 पी.एच.डी तो एक तरफ
डी.लिट. भी अपना सिर
 नब्बे डिग्री में झुकाते हैं
और कितने प्रमाण चाहिए
इतना क्या कम है
दिल के समझाने को
कि वे
नेहरु और गाँधी के
परिवार से आते हैं
 
 
कसाब का जवाब
 
निकल गया कसाब
पूरा बालिग जनाब
है किसी के पास
इसका जवाब
कि
कौन निकला
नाबालिग़?
और
एक बार फिर
किसके मुँह पर
पुत गयी कालिख?
 
 
 
 

10 टिप्‍पणियां:

  1. आज तो बहुत तीखे तेवर हैं आपके .अच्छी रचना है ,बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई बहुत गर्म है ये क्षणिकायें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्‍छी क्षणिकाएं .. पूरे तेवर के साथ लिखा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  4. It's nice to use poetry to give big messages with a few words, it's nice to read your views and hope same in future too. Keep it up.

    vinodnath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. पढ़ा और
    कान जल गए
    पानी नहीं हुए
    जल गए।

    उत्तर देंहटाएं