रविवार, 31 मई 2009

सावधान!! मेरे इस ब्लॉग में आजकल कभी-कभी अनाधिकृत पोस्टिंग की जा रही हैं|

साथियों......पिछले कुछ दिनों से, कभी-कभी, मेरे इस ब्लॉग में कोई अनाधिकृत-रूप से पोस्टिंग कर रहा/रही है, जिससे मैं बहुत परेशान हूँ| पासवर्ड  बदलने के बावजूद यह सिलसिला जारी है ..... आपके पास इस समस्या का कोई समाधान है तो कृपया बताइए|

18 टिप्‍पणियां:

  1. shefali jee, bhai ye to chintaa kee baat hai..mere khyaal se blogtips wale ashish bhai hee aapko sahee salaah de sakte hain...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपनें कहीं भूल या असावधानीवश अपना पासवर्ड टाइप कर दिया लगता है ,जिसका कोई दुरूपयोग कर रहा है .आप ऐसे मैसेज को ओपन ही मत करें .

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या आपने ईमेल से पोस्टिंग इनेबल किया है? यदि हाँ तो हो सकता है उस पते से कोई पोस्ट कर रहा हो सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप तुरंत प्रभाव से अपना इमेल पोस्टिंग के लिये इस्तेमाल किये जाने वाला पासवर्ड बदल दें. और उस विकल्प का इस्तेमाल नही करती हैं तो उसे remove/delete करदे.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तकनीक भी कितनी खतरनाक चीज होती है...

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस ब्लॉग के पेज के सबसे नीचे लिखा है "मेरा ब्लॉग सुरक्षित और आपका??"

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये तो बड़ी चिंता की बात है..
    मेरे ख्याल से वो पिछले वाला पोस्ट कुछ ऐसा ही था

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब ईमेल से पोस्टिंग बंद करने से समस्या सुलझ जाना चाहिये. वरना तो गुनिया से भूत प्रेत झड़वाना ही एक इलाज बच रहेगा.

    :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. मनीषा जी ने सही पकड़ा :-) .....वैसे बात बहुत चिंता की है....तकनीक एक दोधारी तलवार की तरह होती है.....सावधानी हटी, दुर्घटना घटी....मैं भी सोच रहा था अपने ब्लॉग पर ई-मेल से पोस्टिंग करने की, मगर ये बात जानकर फिलहाल रद्द करता हूँ इस विचार को....

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    उत्तर देंहटाएं
  10. दरअसल ई मेल से पोस्टिंग करने में फोर्मेटिंग की सुविधा हो जाती है ..अगर डायरेक्ट पोस्टिंग करती हूँ तो पंक्तियाँ उबड़ खाबड़ पब्लिश होती हैं उड़न तश्तरी जी गुनिया का पता भी दे दीजिए ....हो सकता है की बुलवाना ही पड़े ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. लोकप्रिय ब्लॉगर्स के साथ ही यह होता है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. कमाल है! लोग तकनीक का किस प्रकार से दुरूपयोग करने लगे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सही नहीं है यह । रवि जी और ताऊ के सुझावों पर अमल करें, समस्या सुलझ जानी चाहिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. शेफाली जी आप विनय प्रजापति या आशीष खंडेलवाल से संपर्क करें

    उत्तर देंहटाएं
  15. ओम बडम बुडूम स्वाहा......एक काले मुर्गे की टांग लाईये....काली गाय को पके आलू खिलाईये......बंदर को चाय पिलाइये......हो सके तो पान भी खिलाईये.......झाडू को फूलदान में लगाईये......फूलदान को साबुनदान बनाईये......साबुनदान को महादान मानिये......रोज दो चार बट्टी साबुन दान किजिये......भगवान आपका भला करेंगे......भुडूम....धूडूम .....स्वाहा


    ये वो कामयाब मंत्र है जो गुनिया...झुनिया....ओझा....सोखा...सब गाते फिरते हैं। आप इन बातों का पालन किजिये.... मेल से पोस्ट डिसेबल किजिये....आपकी मनोकामना पूर्ण होगी :)

    Just Kidding :)

    मुझे लगता है मेल पोस्टिंग इनेबल है आपकी। उसमें दो ऑप्शन होते है कि बिना अनुमति के सिर्फ पोस्ट कर देने से भी ब्लॉग पब्लिश हो जायेगी और दूसरा ऑप्शन है कि पोस्ट करने के बावजूद एक बार आपका अप्रूवल जरूरी होता है पोस्ट पब्लिश होने में। सो सेटिंग में चेंज करके moderation before publishing enable किजिये...शायद काम बन जाय ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. यदि मेल से ही पोस्ट करना चाहें तो Save emails as draft posts को Select किजिये। कोई भी पोस्ट अगर मेल से भेजेंगी तो वह सेव हो जायेगी और आपके सिवा किसी और ने भी भेजा तो भी वह पोस्ट सेव ही रहेगी और बिना आपकी अनुमति के पब्लिश नहीं हो पायेगी।

    इति बाबा तिन गुनी रकम फसवाय हिन्टाय नम :)

    उत्तर देंहटाएं