बुधवार, 1 जुलाई 2009

क्षणिकाएं .......

किसी के
बारिश की
टूट गयी
सारी हदों से, 
तो , 
किसी के
बाढ़ राहत
कोष के लिए 
आई  
करोणों की
मददों से
 इस बार फिर से
छप्पर फट गए
कृपा पानी की
नर से इस तरह
वे नारायण हो गए ...
 
 
आम बजट ........
 
वह
जो बनता है
तो आम के लिए है
लेकिन उसको
ख़ास चूस जाता है
आम के लिए बस
गुठली ही छोड़
जाता है
आम बजट
कहलाता है ......
 
 
 
 
 

11 टिप्‍पणियां:

  1. इसलिए आम बजट
    आम के माफिक
    महंगा होता जाता है।

    यह सब नारायण
    ही तो करवाता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बजट को आम बजट नही कहेंगे तो भी मर-मर कर जियेगा आम आदमी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आम की जगह इसे धडाम बजट कहें तो चलेगा न...क्या क्षणिकाएं हैं..बिलकुल स्थाईकायें लग रही हैं...वाह वाह ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. gaagar main saagar hain ,kshnikaayen ,Mubaarak .veeubhai1947.blogspot.com(virendra sharma)veerubhai1947@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं