गुरुवार, 2 जुलाई 2009

ये किसको मिल गया मूर्ति देवी पुरस्कार .....

साथियों ...आज हमारी कक्षा में जो हुआ ...अच्छा नहीं हुआ ....हम तो चाहते थे कि बच्चों का सामान्य ज्ञान बढ़े...लेकिन ये सरकारी स्कूलों के बच्चे .....बाप रे बाप .....देखिये आज क्या हुआ ......
 
मूर्ति देवी पुरस्कार ............
 
आज, सामान्य ज्ञान के पीरिअड में
जब पूछा हमने छोटा सा यह सवाल
बच्चों ने दिया जो उत्तर ,
उस पर मचा बड़ा ही बवाल
हमने पूछा ..................
बच्चों ,ज़रा यह बतलाओ
अपना ज्ञान तो जतलाओ
मूर्ती देवी पुरस्कार
किस क्षेत्र में दिया जाता है ?
एक सुर से बोले बच्चे ....
मैडम ,
 यू. पी. के हर क्षेत्र में  
गाँव में , शहर में
पार्क में , खेत में ,
मिटटी में , रेत में 
गलियों में चौबारों में 
उजालों में ,अंधियारों में
जिस देवी ने
अपनी मूर्तियों को
स्थापित किया है
ज़मीन वालों को ज़मीन से   
विस्थापित किया है
क्यूंकि ,
उसको अपने दिल में
तनिक नहीं विश्वास
कि गुज़र जाने के बाद  
कोई करेगा उसको
 दिल से याद
इसीलिए ..............,
दिलों से निकल कर
सड़कों पे सज गयी है
सेवा का दम भरने वाली  
मेवा मिला तो
पत्थर बन गयी है
झूठ कहतीं हैं ये किताबें
इन पर  कभी -कभी
गलत भी छप जाता है
इसीलिए मैडम .......
सुन लो कान खोल कर
मूर्ती देवी पुरस्कार
अब सिर्फ और सिर्फ
कायावती को जाता है
 
 
 

9 टिप्‍पणियां:

  1. न बच्‍चों न

    कायावती नहीं

    मायावती

    यही सच है

    बाकी सब झूठ है

    उत्तर देंहटाएं
  2. मूर्ति पुरस्कार बहुत अच्छा बहुत सही लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज तो जमाना है जय कायावती बहनजी बोलने का.:) तो बच्चों से जोर से जय बुलवाईयेगा रोज .:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब तो यही जमाना आया है. बच्चों की पाठय पुस्तक में यह कविता लागू करवाओ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुंरत यह कविता मायावती जी के पास भिजवा कर पाठ्य पुस्तक में समाहित करवानी ही पड़ेगी, कौन जाने सत्ता से हटने के बाद बच्चे पढें या न पढ़े...............

    सुन्दर कटाक्ष. सफल प्रयास

    बधाई.
    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं