मंगलवार, 16 मार्च 2010

एक नए अंदाज़ में...बहुत मुबारक नव संवत्सर .........

बहुत मुबारक नव संवत्सर .........
 
कुंवारी कन्याओं के लिए ......
 
हों मात-पिता कोई भी
इस वर्ष ना टूटे कमर
बिन छीछालेदर, बिन स्वयंवर
कन्याओं को मिल जाएं वर.
 
बहुत मुबारक नव संवत्सर .........
 
विद्यार्थियों के लिए
 
इस वर्ष का है या मंजर
ना होगा फ़ेल कोई, न होगा टॉपर
अगले साल घर बैठोगे तुम
और गुरुजन देंगे पेपर.
 
बहुत मुबारक नव संवत्सर .........
 
नेताओं के लिए .....
 
नेताओं को मिल जाए गद्दी
साथ में हो एक लाल बत्ती
पोस्टरों में ही चिपके ना रह जाएं
छुट्भैय्यों को भी मिल जाए माल तर
 
बहुत मुबारक नव संवत्सर .........
 
महिलाओं के लिए .....
 
दृष्टि हो बस अब संसद पर
फेंक दो सब  सोने के जेवर
माया कंगन, माया झुमके
हो माया हार, हर गर्दन पर.
 
बहुत मुबारक नव संवत्सर .........
 
ब्लोगर्स के लिए ......
 
पोस्ट विवादित हो जाए हर
मिलें टिप्पणियाँ भर - भर कर
उंगली कोई उठाने लग जाए तो,
झट बेनामी का रूप धर
 
बहुत मुबारक नव संवत्सर .........
 
 

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब लगी ये रचना
    तो मन ने कहा कि टिप्पणी कर
    (आपको भी)हो बहुत मुबारक नव संवत्सर......

    उत्तर देंहटाएं
  2. नव संवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बढ़िया नया साल मनवा दिया है ...मुबारक हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढिया .. आपको भी बहुत मुबारक नव संवत्सर .........

    उत्तर देंहटाएं
  5. दृष्टि हो बस अब संसद पर
    फेंक दो सब सोने के जेवर
    माया कंगन, माया झुमके
    हो माया हार, हर गर्दन पर.
    sach kaha aapne, ab 9 lakha haar ke din gaye,waie ab sansad bhi door nahi raha....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया रहा आपका नया अन्दाज़!
    भारतीय नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. पोस्ट विवादित हो जाए हर
    मिलें टिप्पणियाँ भर - भर कर
    उंगली कोई उठाने लग जाए तो,
    झट बेनामी का रूप धर
    अद्भुत परिहास बोध आपकी कविता में एक ताक़त भरता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. नेताओं को मिल जाए गद्दी
    साथ में हो एक लाल बत्ती
    पोस्टरों में ही चिपके ना रह जाएं
    छुट्भैय्यों को भी मिल जाए माल तर

    वाह, ताऊ की तो चेत गई नये साल मे.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेडम जी आपके लिए ...........

    कलम चले यों ही तत्पर
    प्रसंशा मिले भर भरकर
    लिखें चाहे लेख या कविता
    बना रहे हमेशा आपका यही स्तर

    बहुत मुबारक नव संवत्सर .........

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा हा ....बहुत बढ़िया नव वर्ष ....अच्छा व्यंग....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. भारतीय नववर्ष आपको मुबारक हो.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  12. हा हा हा ....बहुत बढ़िया नव वर्ष ....अच्छा व्यंग....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके लिए

    रचना में दिखा एक स्तर
    हुआ मन पे कुछ असर,
    भाव जो जागे दिल में, वे
    टिप्पणी के रूप में आये नज़र,


    शुभ हो नव संवत्सर.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बढिया । नव संवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. सही है...


    आप को नव विक्रम सम्वत्सर-२०६७ और चैत्र नवरात्रि के शुभ अवसर पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. अलग अंदाज में मुबारक बाद बढ़िया लगा....आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति, बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. पोस्ट विवादित हो जाए हर
    मिलें टिप्पणियाँ भर - भर कर
    उंगली कोई उठाने लग जाए तो,
    झट बेनामी का रूप धर

    :)) Nice tip ! Searching back some controversial write ups :).

    उत्तर देंहटाएं