मंगलवार, 14 सितंबर 2010

हिन्दी - अंग्रेजी का युद्ध ...

हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में एक पुरानी रचना ........
 
हिन्दी - अंग्रेजी का वाक् युद्ध
 
अंग्रेजी ................................
तू हो गयी है आउट ऑफ़ डेट,
मार्केट में  तेरा नहीं है कोई रेट | 
तू जो मुँह से निकल जाए,
लडकी भी नहीं होती सेट | 
 
तेरी डिग्री को गले से लगाए,
नौजवान रोते रहते हैं |
तुझे लिखने , बोलने वाले,
फटेहाल ही  रहते हैं |
 
 
जिस पल से तू बन जाती है,
किसी कवि या लेखक की आत्मा | 
उसे बचा नहीं सकता फाकों से,
ईसा, खुदा या परमात्मा | 
 
मैं जब मुँह से झड़ती हूँ,
बड़े - बड़े चुप हो जाते हैं|
थर - थर कांपती है पुलिस भी,
सारे काम चुटकी में हो जाते हैं |
 
तुझे बोलने वाले लोग,
समाज के लिए बेकवर्ड हैं |
मैं लाख दुखों की एक दवा,
तू हर दिल में बसा हुआ दर्द है |
 
मैं नई दुनिया की अभिलाषा,
तू गरीब,  गंवार की भाषा |
मैं नई संस्कृति का सपना,
तू जीवन की घोर निराशा |
 
ओ  गरीब की औरत हिन्दी !
तू चमकीली ओढ़नी पर घटिया सा पैबंद है |
तेरे स्कूलों के बच्चे माँ - बाप को भी नापसंद हैं |
मैं नई - नई बह रही बयार हूँ |
नौजवानों का पहला -पहला प्यार हूँ |
 
मुझ पर कभी चालान नहीं होता |
मुझे बोलने वाला भूखा नहीं सोता |
मुझमे बसी लडकियां कभी कुंवारी नहीं रहतीं |
शादी के बाद भी किसी का रौब नहीं सह्तीं |
मुझको लिखने वाले बुकर और नोबेल पाते हैं |
तुझे रचने वाले भुखमरी से मर जाते हैं |
 
हिन्दी .........................................
मेरे बच्चे तेरी रोटी  भले ही खा लें,
तेरी सभ्यता को गले से लगा लें,
सांस लेने को उन्हें मेरी ही हवा चाहिए|
सोने से पहले मेरी ही गोद चाहिए|
 
बेशक सारे संसार में आज,
तेरी ही तूती बोलती है |
मार्ग प्रगति के चहुँ ओर,
तू ही खोलती है |
पर इतना समझ ले नादाँ,
माँ फिर भी  माँ ही होती है |

22 टिप्‍पणियां:

  1. कैसी बिडम्बना है ..
    पर जब तक हिंदी हम और तुम जैसों की कलम में बसेगी
    बेशक न पहने ताज दुनिया का ,पर दिलों में सबके रहेगी .

    बेशक नौजबान अंग्रेजी में पटपटायेगा,
    पर महबूबा को दिखाने
    हिंदी फिल्म ही ले जायेगा :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति .... आभार
    क्या बात है बहुत ही अच्छी पंक्तिया लिखी है .....

    हिंदी दिवस की शुभ कामनाएं

    एक बार पढ़कर अपनी राय दे :-
    (आप कभी सोचा है कि यंत्र क्या होता है ..... ?)
    http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_13.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. kya baat kahi hai...........vatvriksh ke liye apni yah rachna bhejen rasprabha@gmail.com per

    उत्तर देंहटाएं
  4. ______________
    आपने एक पलड़े मैं हिंदी को ,
    और दूसरे पलड़े मैं अंग्रेजी को रखकर,
    तथा इन दोनों में कौन हल्का है ?
    और कौन भारी है ?.....यह लिखकर,
    तराजू की जिम्मेदारी को बखूबी निभाया है |
    .... लेख बहुत भाया है ....
    __________________________________

    उत्तर देंहटाएं
  5. सांस लेने को उन्हें मेरी ही हवा चाहिए|
    सोने से पहले मेरी ही गोद चाहिए|

    बेशक सारे संसार में आज,
    तेरी ही तूती बोलती है |
    मार्ग प्रगति के चहुँ ओर,
    तू ही खोलती है |
    पर इतना समझ ले नादाँ,
    माँ फिर भी माँ ही होती है |


    bahut khoob achhi aur samvednaon to tatolti, saamyik rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिन्दी की दुर्दशा पर तकलीफ़ उस वक्त और बढ जाती है, जब हम अपनी ही राष्ट्र भाषा का दिवस मनाते हैं. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिन्दी द्वारा अंग्रेजी को इससे ज्यादा करारा जवाब शायद ही कोई और भाषा दे पायें. अंग्रेजी को धुल चटा दी हिन्दी ने.
    जय हिन्दी, जय हिन्दी.
    बहुत बढ़िया लिखा हैं आपने.
    बहुत-बहुत धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  8. " माँ फिर भी माँ ही होती है......."
    बहुत ही अच्छी पंक्तिया लिखी है .....आभार

    उत्तर देंहटाएं

  9. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से, आप इसी तरह, हिंदी ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं

  10. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से, आप इसी तरह, हिंदी ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  11. Bahut badiya article tha aapka Hindi ke bare mai etni achi ray aur aisi tippni sahi mai kahta hu mai to gad-gad ho gaya bahut bahut dhanybad aapka.

    उत्तर देंहटाएं
  12. अंग्रेज़ी ने भले ही जगह बनायीं हुई है पर हिंदी का जवाब लाजवाब है ....बहुत बढ़िया रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. .
    @--अंग्रेज़ी ने भले ही जगह बनायीं हुई है पर हिंदी का जवाब लाजवाब है ..

    सहमत हूँ संगीता जी से।

    सुन्दर अभिव्यक्ति।
    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेशक सारे संसार में आज,
    तेरी ही तूती बोलती है |
    मार्ग प्रगति के चहुँ ओर,
    तू ही खोलती है |
    पर इतना समझ ले नादाँ,
    माँ फिर भी माँ ही होती है |
    बहुत अच्छी प्रस्तुति।बहुत अच्छी पंक्तिया

    उत्तर देंहटाएं
  15. पर इतना समझ ले नादाँ,
    माँ फिर भी माँ ही होती है

    वाह मन खुश हो गया इन लाइन को पढ़ कर.

    शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरे बच्चे तेरी रोटी भले ही खा लें,
    तेरी सभ्यता को गले से लगा लें,
    सांस लेने को उन्हें मेरी ही हवा चाहिए|
    सोने से पहले मेरी ही गोद चाहिए|

    बेशक सारे संसार में आज,
    तेरी ही तूती बोलती है |
    मार्ग प्रगति के चहुँ ओर,
    तू ही खोलती है |
    पर इतना समझ ले नादाँ,

    bahut hi khoob kaha
    likha
    tulnatmak adhyan , sachhai yahi he

    उत्तर देंहटाएं
  17. शेफाली जी. हिंदी जब तक रोजगार की भाषा नहीं बनेगी तब तक उसकी नियति में अंग्रेजी की दासी बनना ही लिखा है। सादर...उमेश यादव, मुंबई

    उत्तर देंहटाएं
  18. "अंग्रेज़ी की पढाई

    फिर भी हिन्दी अपनाई

    मातृभाषा की वकालत से

    बेशक

    अंग्रेज़ी तिलमिलाई"

    ..........नाज़ है हमें कुमायूं की धरती पर ......

    जोर का तड़का बहुत जोर से लगा /

    उत्तर देंहटाएं