बुधवार, 15 सितंबर 2010

हो रहा भारत निर्माण .........शेफाली

हो रहा भारत निर्माण .........
 
कहीं  सड़ रहा  गोदामों में,         
कहीं भीग रहा मैदानों में |
सुप्रीम कोर्ट की डांट से भी  
जूं  ना रेंगे कानों में |
अनाज का वितरण,
कठिन लग रहा ,
पैसे का आसान |
दूर कहीं दो रोटी की खातिर,
फिर नत्था ने छोड़े प्राण |
 
हो रहा भारत निर्माण .........
 
डूब गए हैं खेत घर,
डूब गए हैं गाँव - शहर |
नहीं थम रहा किसी तरह,
पानी का ऐसा कहर |
नुकसान करोड़ों का हुआ  ,
अरबों के बनते प्रस्ताव |
किसी का आटा हुआ है गीला,  
किसी का छप्पर गई है फाड़, 
अबके बरस की बाढ़ |
 
हो रहा भारत निर्माण .........
 
ये है कॉमनवेल्थ  का खेल,
मेहमानों की इस आवभगत को,
घोटालों की चली है रेल |
खेल - खेल में इतना डकारा, 
छोर मिला ना मिला किनारा |
खुल के खाओ, और  खिलाओ,
है चारों तरफ तनी  हुई
सरकारी पैसे की आड़ | 

 हो रहा भारत निर्माण .....
 
 कैसी बनी हुई है यह धुन,
कैसा बना हुआ है गान ?
करोड़ों रुपया लेकर  भी,
चढ़ पाई ना किसी ज़ुबान |
जिसकी धुन पर दुनिया नाचे,
कहाँ चूक गया वो  रहमान ?
कौन निकालेगा अब आकर
दिल्ली की छाती पर
बिंधे हुए ज़हरीले बाण ?
 
हो रहा भारत निर्माण......
 
भ्रष्टाचार की नींव तले |
करेले हैं ये नीम चढ़े |
सारे दावे हुए खोखले,
हमाम में सब नंगे मिले |
जनम- जनम के दुश्मन देखो,
कैसे हँस - हँस  गले मिले |
विश्वास नहीं तिनकों का भी अब, 
छिप जाते हैं  बिन दाड़ |
 
हो रहा भारत निर्माण......

40 टिप्‍पणियां:

  1. वाह क्या सटीक कटाक्ष है ....हर क्षणिका लाजवाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. इंसानियत पे पैसा भारी है ,इस देश की सरकार पे दलाल और भ्रष्टाचारी भारी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सटीक......बढ़िया...... लाजवाब।
    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    www.vyangya.blog.co.in
    http://vyangyalok.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. रोका जाये यह निर्माण, नहीं तो आसमान फाड़कर निकल जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. लिखती हो बढ़िया तुम लेख,
    अपनी इन अंधी आँखों से देख,
    करता है दिल ये स्वीकार ,
    व्यंग तुम्हारे उत्तम हर बार ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद बेहतरीन और पोल खोलते कटाक्ष के लिए बहुत-बहुत आभार.
    आम जन को ब्लॉग के माध्यम से जागरूक करने के आपके प्रयासों का मैं मुरीद हूँ.
    बहुत-बहुत आभार.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  7. .
    ग़ज़्ज़ब.. ल्यौ, इनाम में
    ई दुई लाइनें औरु धर लियो, मोर बहिनी

    यों कोसो मत यह तो है ही कॅम-ऑन-वेल्थ
    मौसम यही कि पहले देखो रुतबा पीछे हेल्थ

    अब न्यूक्लियर पॉवर कहलाये हम
    डोमेस्टिक पॉवर क्यों माँगते तुम

    उत्तर देंहटाएं

  8. मर्डरेशन !
    यही तो लोचा है..
    पसँद नहिं आवा तौ ?
    खैर.. इनमवा त अब न वापिस लेब !

    उत्तर देंहटाएं
  9. jo halaat apki rachana bayan karati hai us par afsos aur....... jis tarah bayan karati hai uske liye badhai... bahut achha kataksh

    उत्तर देंहटाएं
  10. हो रहा है इस तरह भारत का निर्माण ...
    व्यंग्य ही कर सकते हैं और क्या करें ...!

    उत्तर देंहटाएं
  11. likhte aap shandaar ho!!

    lekin bharat nirman to ho raha hai sach me
    beshak uske sath, kuchh aur logo ke tijori ka nirman bhi ho ja raha hai........:)

    उत्तर देंहटाएं

  12. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं

  13. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  14. अनाज का वितरण,
    कठिन लग रहा ,
    पैसे का आसान |
    दूर कहीं दो रोटी की खातिर,
    फिर नत्था ने छोड़े प्राण |

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  15. अनाज का वितरण,
    कठिन लग रहा ,
    पैसे का आसान |
    दूर कहीं दो रोटी की खातिर,
    फिर नत्था ने छोड़े प्राण |

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  16. अनाज का वितरण,
    कठिन लग रहा ,
    पैसे का आसान |
    दूर कहीं दो रोटी की खातिर,
    फिर नत्था ने छोड़े प्राण |

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  17. अनाज का वितरण,
    कठिन लग रहा ,
    पैसे का आसान |
    दूर कहीं दो रोटी की खातिर,
    फिर नत्था ने छोड़े प्राण |

    bahut khoob :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. व्यवस्था की बुराईयों पर तीखा प्रहार. बहुत सुन्दर.

    www.srijanshikhar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. निहायत ही सशक्त और श्रेष्ठतम व्यंग, शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  20. व्यवस्था की बुराईयों पर तीखा प्रहार. बहुत सुन्दर.

    www.srijanshikhar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. टी वी पर सुबह शाम आता रहता है कि हो रहा भारत निर्माण..
    साठ साल से ज्यादा बीत गए और अभी तक निर्माण पूरा हुआ नहीं है.. पता नहीं और कितना लम्बा चलेगा. कही किसी सरकारी ठेकेदार को तो नहीं दे रखा है काम???

    काश कि कोई गाना आये कि हो गया भारत निर्माण

    उत्तर देंहटाएं
  22. बनते अंगरेजी के टीचर
    हिन्दी में ब्लॉग चलाते हैं
    खींचते कान नेताओं के
    बच्चों को नहीं पढ़ाते हैं
    भारत है कितना विशाल यह
    अंगरेजी टीचर क्या जानें
    भूगोल मास्साब से पूछ
    ठहरो हम अभी बताते हैं
    सीमेंट और बालू का तो
    मिश्रण डेली बनवाते हैं
    पर बना हुआ निर्माण यहाँ
    हम अगली सुबह न पाते हैं
    रात में बराबर कर देते
    जो कुछ भी मिलता है निर्मित
    अब नाथ कौन इनको डाले
    जो घूम रहे सैकड़ों साँड़
    कैसे भारत का हो निर्माण ?

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपका ब्लॉग पढ़ना सार्थक हो जाता है...आपकी रचनाये पढ़ कर.
    बहुत सटीक व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  24. बस लग रहा है...इतनी जोर जोर ताली पीटूं आपकी इस रचना पर कि इन भारत निर्माताओं के कान फट जाएँ...

    बहुत बहुत बहुत बहुत बेहतरीन....
    एकदम सटीक !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. shaandar geet,

    basie hame ab chahiye, apna rashtrageet badlakr
    yahi gungunana chaihiye.....

    bahut bahut sateek prahaar, mgar kisiko koi farq nhi bedu.....

    Me bhi kuch gaunga ab..

    "Hum gaate rahenge,
    wo khate rahenge
    janta roti rahegi
    neta muskarate rahenge,

    hum karte rahenge apna kam
    wo karete rahenge apna kam
    isi tarha ho raha bharat nirman"

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahu umda kavita hai badhai is tanz ka jawab nahin aadil rasheed
    http://www.aadil-rasheed-hindi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  27. धारदार व्यंग्य। अच्छी प्रस्तुति। एकदम सटीक |
    "डूब गए हैं खेत घर,
    डूब गए हैं गाँव - शहर"|
    हो रहा भारत निर्माण .....................|

    उत्तर देंहटाएं
  28. शेफाली जी
    नमस्ते !
    अच्छा मंथन है , आप के ब्लॉग पे आना का ये पहला अवसर मिला है , अच्छा लगा .
    अच्छी अभिव्यक्ति ,
    बधाई !
    साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  29. ऐसा ही होता आया है ऐसा ही होता रहेगा ...होने दो होने दो ..?

    उत्तर देंहटाएं
  30. व्यंग्य से भरपूर...कटाक्षों से सुसज्जित...सुघड़ एवं पैनी धार लिए बहुत ही बढ़िया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  31. sabhyta ke sath sarkaar par isase accha koi vayng ho hi nahi sakata......................jai ho aap ki aur is desh ki ....

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुन्दर रचना, सटीक व्यंग्य, करारा प्रहार, हार्दिक बधाई ...

    पिछले महीने मैंने भी इसी शीर्षक से एक कविता लिखी थी ... कविता प्रेमी निचे दिए गए लिंक के माध्यम से अवलोकन कर सकते है..

    http://www.kavyarachnaveer.blogspot.in/2013/06/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं