रविवार, 13 जनवरी 2013

कसाब का हिसाब

 ज़िंदगी के उलझे हुए गुणा -भाग का
हिसाब हल हो ही जाता है 
कठिन से कठिन सवाल का
जवाब आखिरकार मिल ही जाता है  ।
मान्यवरों, मना लो अपनी खैर
बचा लो अपनी जान,शहंशाहों 
कि  
तुलनात्मक अध्ययन के वास्ते
भारत में अब 
कसाब प्रयोग में आता है ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया क्षणिका है.
    पर, शीर्षक देख कर मैं कोई धांसू व्यंग्य पढ़ने की फिराक में आया था :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदर्शों का संकट आया,
    उसने एक कसाब बनाया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो आपकी किसी कविता का बच्चा लग रहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविता का बच्चा ही सही पर बिल्कुल सटीक लिखा है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं