सोमवार, 11 मार्च 2013

उफ़ क्या ज़माना आ गया है ?

लोग सदमे में हैं । देश निराश के भयानक दौर से गुज़र रहा है । सारी आशाएं समाप्त होती दिख रही हैं । देश का बेड़ा गर्क हुआ ही समझो । 

लोग उम्मीद की दृष्टि से उसे देख रहे थे कि वह पति के मरने के बाद पछाड़ खा - खा कर रो रही होगी । आंसुओं की नदियाँ बह गयी होंगी । उसकी चीखें लोगों के ह्रदय को चीर कर रख देंगी । सदमे से सुध - बुध खो चुकी होगी । दिमाग काम नहीं कर रहा होगा । विक्षिप्तावस्था में पहुँचने ही वाली होगी । चेतना विलुप्त हो चुकी होगी । सारा समय वह शून्य में निहार कर काट देती होगी । अनाप - शनाप बडबडा रही होगी । अपनों को पहिचानने में उसे कष्ट हो रहा होगा । अन्न जल तो पति की मृत्यु के पश्चात ही त्याग दिया होगा । कमरे में बंद हो गयी होगी । किसी के सामने आने से भी कतरा रही होगी । 

पर नहीं,  उसे ऐसा होश आया और ऐसा आया कि सबके होश उड़ गए । प्रदेश से लेकर देश तक दुःख के सागर में डूब गया । गणितज्ञों का गणित गड़बड़ा गया । सिर शर्म से झुक गए । ऐसा भी कभी होता है भला ? 

यह तो पुरुष का काम होता है हर समय दिमाग खुले रखने का । उसको तो भूखी प्यासी रहना था । शव पर सिर पटक पटक कर जान दे देनी थी । और उसे देखो कैसे बेशर्मों की तरह सौदेबाजी कर रही है । एक वह भी ज़माना था जब स्त्रियाँ पति की चिता पर जान देती थीं । पति के जाते ही उनकी दुनिया ख़त्म हो जाया करती थी ।  

लोग आश्चर्यचकित हैं ।  इतनी बेहतरीन सौदेबाजी आज तक कोई नहीं कर पाया । उसने साबित कर दिया कि सौदेबाजी की कला में महिला को कोई पछाड़ नहीं सकता । बशर्ते महिला की गणित अच्छी  होनी चाहिए । जब वह मोल भाव करने पर आती  है तो अच्छे - अच्छों के होश फाख्ता हो जाते हैं । ऐसा नहीं है कि सभी महिलाएं गणित में पारंगत होती हों । भारत वर्ष में अधिकाँश महिलाओं की गणित अच्छी नहीं होती । ऐसी महिलाओं हिसाब - किताब से घबराकर जो हाथ में आ जाए उसे ही संदूक के अन्दर ताला लगा कर रख देती हैं । इधर कुछ वर्षों में महिलाओं के अन्दर गणितीय क्षमता का काफी विकास हुआ है । जिसका साक्षात नमूना आजकल देखने को मिल रहा है । 

कहते हैं कि एक लडकी के ऊपर अपने मायके और ससुराल दोनों की लाज रखने की ज़िम्मेदारी होती है । साथियों उसने ससुराल और मायके दोनों की लाज रखी । किसी को शिकायत का मौका नहीं दिया ।  दोनों के घरवालों के लिए नौकरियां मांग लीं । जिसे छोड़ देती वही नाराज़ हो जाता । स्वयं से ज्यादा उसने दोनों परिवारों के लिए सोचा । अपने लिए भी पति वाला ही पद मांग डाला । चाहती तो चार पद अपने लिए मांग लेती । लेकिन नहीं सिर्फ एक से ही संतोष कर लिया । यह भी कोई बात हुई ? अपने लिए भी भारतीय स्त्री ने कुछ माँगा है भला आज तक ? जो सरकार दे देती वही एहसान मानते हुए रख लेती । 

उफ़ क्या ज़माना आ गया है ? 

होश खोना था 
होश उड़ा दिया । 
जीभर के रोना था 
जग भर को रुला दिया ।  
पानी ढूंढ रहे थे जो आँख में
उन सबको पानी पिला दिया । 












                                                                          

6 टिप्‍पणियां:

  1. होश खोना था
    होश उड़ा दिया ।
    जीभर के रोना था
    जग भर को रुला दिया ।
    पानी ढूंढ रहे थे जो आँख में
    उन सबको पानी पिला दिया ।

    उस पर जज्बात से ज्यादा जालिम हकीकत हावी हो गई, बिल्कुल सटीक लिखा आपने.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब, लोगों की चाह आपकी राह नहीं बन सकती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत उम्दा प्रस्तुति आभार

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    आप मेरे भी ब्लॉग का अनुसरण करे

    उत्तर देंहटाएं