मंगलवार, 12 मार्च 2013

राम सिंह ! आराम से तो हो ?

राम सिंह ! आराम से तो हो ?

था
तेरे पास
कानून, अदालत
तर्क - वितर्क
न्याय, माफ़ी
सहानुभूति
पश्चाताप
तुझे सजा मिलती भी तो पता नहीं कब और कितनी ?

था
हमारे पास
दुःख का दरिया 
बद्दुआओं का सागर 
आंसुओं की नदी 
दर्द का सैलाब
तू बचता भी तो पता नहीं कब और कितना ?

11 टिप्‍पणियां:

  1. सामयिक हालात का सटीक चिंतन.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (13-03-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  3. पीड़ा की अवधि कम हो गयी बस..निष्कर्ष तो वही रहे।

    उत्तर देंहटाएं

  4. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुःख तो अपनी जगह है ही हाँ सरकारी पैसे की बचत हो गयी

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह बद्दुआओं का ही असर है. चलो उसे भी शांति मिल गयी. सुंदर कविता के माध्यम से आपने सच को आगे रखा है.

    उत्तर देंहटाएं