बुधवार, 27 मार्च 2013

खेल रंग की जंग

खेल रंग की जंग

मत देख लंका, मत देख इटली
मत देख दंगा, मत ले पंगा
मत देख भूख, मत देख रसूख
मत देख गरीबी, मत देख फरेबी । 

मत सुन कराह, मत सुन आह
मत सुन धमकी, मत सुन भभकी
मत सुन महंगाई, मत सुन काली कमाई
मत सुन भ्रष्टाचार, मत सुन व्यभिचार । 

मत कह मेरी मर्जी, मत कह एलर्जी
मत कह शुगर, मत कह ब्लडप्रेशर
मत कह केमिकल, मत कह हर्बल
मत कह बुखार, मत कह अगली बार ।     

आज बस झूम झूम कर गाले होली
आज बस झूम झूम कर सुन ले होली
आज बस झूम झूम कर देख ले होली
सखी- सहेली, पास- पड़ोसी या प्रियतम के संग
खेल रंग की जंग, बस तू खेल रंग की जंग  । 

8 टिप्‍पणियां:

  1. कुल मिला कर सारे दर्द और गम भूल कर होली मना लो।
    सब यही कर रहे हैं। होली की शुभकामनाएं एवं बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. तब क्या :) खेल ली होली?? सब भुला-भुलू के?? :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. सराहनीय, हिन्दुस्तान से बाहर तो बस त्योहारो की यादें ही रह गए हें| पोस्ट पढ़के अच्छा लगा|

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस रंगी होली, और कुछ किया तो बेरंगी हो ली।

    उत्तर देंहटाएं