गुरुवार, 18 अप्रैल 2013

नव संवत्सर का फल तो सुनते जाइये ..............


नव संवत्सर का फल तो सुनते जाइये ..............

कोई इसे पराभव कह रहा ही तो कोई प्रभाव । जो भी है इसका एक ही भाव है बह है चुनावी भाव ।
इस पर आने वाले चुनाव का प्रभाव रहेगा इसीलिये इसका भाव इस प्रकार रहेगा .......

सोए पड़े जिन्न जाग जाएंगे । बोतलों से बाहर निकाले जाएंगे । कभी डराएंगे, कभी रुलाएंगे । चौरासी में बंसी बजाने वाले अब चैन की नींद नहीं सो पाएंगे । टाइटलरों की हवा टाईट रहेगी । विकीलीक्स के खुलासों पर फाईट रहेगी ।

फूलों की बत्ती गुल रहेगी । शहद को चूस - चूस मधुमक्खी पावरफुल रहेगी । छत्तों में शहद बनेगा ज़रूर । लेकिन जुबां से नीम टपकेगा हुज़ूर ।

ज़मीन सूखी रहेगी । ज़ुबान  रूखी रहेगी । इससे बचने का उपाय सिर्फ अजीब पवार जानते हैं । खूब पानी पियें । पानी न मिले तो खून के, अपमान के घूँट पियें । वह भी ना मिले तो आंसू पियें । इनकी कमी कभी नहीं पड़ेगी, ऐसा विद्व जन मानते हैं । 

इससे यूरीन का इन्फेक्शन नहीं होता । सबसे बड़ी बात, दिल और ज़ुबान का आपस में कोई कनेक्शन नहीं होता ।

खेल के मैदान में बस आई. पी. एल. होगा । सुबह से शाम, शाम से सुबह बस किरकेट की बातें होंगी । खिलाड़ियों के बीच थप्पड़, घूंसे, गाली और लातें होंगी । रोज़ घरों में खिचखिच होगी । रिमोट के पीछे किचकिच होगी । अन्य खेलों की  किरकिरी होगी । बैट और बॉल की रिकॉर्ड तोड़ बिक्री होगी ।

राजनीति में धोबी पछाड़, उठापटक, दल - बदल तेज़ होते जाएंगे । रूठे हुओं को मनाने में हाईकमान के पसीने छूट जाएंगे ।

कमाल कमाल के कोम्बिनेशन मिलेंगे । कहीं रेडीमेड कहीं सेल्फ़्मेड कहीं मिल्कमेड मिलेंगे । वोटिंग रूम में वेट करते भी कुछ लोग मिलेंगे । ताश के बावन पत्तों में हर पत्ते का जी मचला करेगा । जिस पत्ते को खोलेंगे वही बादशाह वाला निकला करेगा  ।

बंगाल में काला जादू असर दिखाएगा । अच्छे भले को भी अस्पताल पहुंचाएगा । मेंढकी को ज़ुकाम होगा । शेरनी का जी हलकान होगा ।

सहारा बेसहारा होगा । बहाने - बहाने से अख़बार में छाए रहना ही एकमात्र चारा होगा ।

आम आदमी बिजली का बिल नहीं भर पाएगा । जिस कारण ख़ास लोगों का फ्यूज़ उड़ जाएगा ।

अशर्फियों की लूट होगी, कोयलों पर मुहर होगी ।  सोने को सिर से उतारा जाएगा । चांदी को जूता मारा जाएगा । 

फिल्म इंडस्ट्री का होगा अद्भुद नज़ारा । किरकिरी में बदल जाएगा आँख का तारा । नायक, खलनायक वाले कामों से बदनाम होगा । खलनायक की झोली में सबसे बड़ा ईनाम होगा । बिना डुप्लीकेट स्टंट का अंजाम भुगतना होगा । आँसुओं को बिना ग्लिसरीन के टपकना होगा । 















14 टिप्‍पणियां:

  1. नव संवत्सर का सुन्दर प्रभाव लिखा है बधाई स्वीकारें !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नव संवत्सर का फल मजेदार है पर ऐसा लगा की अचानक ही ब्रेक लग गया है। लगता है की सभी राशियों के लिए पूरा नहीं पढ़ा गया है । क्या इसकी अगली क़िस्त भी आयेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज की ब्लॉग बुलेटिन गुड ईवनिंग लीजिये पेश है आज शाम की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. नववर्ष और नवरात्री की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें | आभार | अच्छी पोस्ट |

    अत्यंत सुन्दर और भावपूर रचना विकेश भाई | शुक्र है किसी ने तो सोचा ऐसों के बारे में | ईश्वर उन्हें शांति प्रदान करे | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप तो संवत्सर का फ़ल सुना रही हैं और मैं सोच रहा हूं यह महा संवत्सर का फ़ल है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुती। मेरे ब्लॉग http://santam sukhaya.blogspot.com पर आपका स्वागत है. अपनी प्रतिक्रिया से अवगत कराये, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं