सोमवार, 29 अप्रैल 2013

दिल चाहिए बस मेड इन चाइना ....


सुनी जबसे खबर कि चीन भारत में घुसपैठ कर गया । प्यारे बापू का दिल ही बैठ गया । 

बहुत परेशान हो गए । गुस्ताखी पर उसकी हैरान रह गए ।

कैसे भारत की सीमा के इतने अन्दर घुस आया होगा ? क्या किसी को भी नज़र नहीं आया होगा ?

मुझको अभी के अभी धरती पे जाना होगा । जैसे भगाया था अंग्रेजों को, इनको भी भागना होगा ।

जंग - ए - आजादी अभी जिंदा है मेरे अन्दर । धड़कता है मेरा भारत मेरे सीने के अन्दर ।

सत्याग्रह, असहयोग के सारे तरीके याद हैं आज भी । खदेड़ा था कैसे अंग्रेजों को, याद है आज भी ।

देखना बा ! मेरी एक आवाज़ पर देश के दीवाने दौड़े चले आएँगे । वो आज़ादी के परवाने बूढ़े हो गए होंगे, फिर भी खुद को रोक न पाएँगे ।  देश पर मर मिटने वाले मस्तानों की फ़ौज भागी चली आएगी । तुम देखना ! कैसे फिर हर चौराहे पर  चाइनीज़ आइटमों की होली जलाई जाएगी । आजादी के आन्दोलन की याद एक बार फिर ताज़ा हो जाएगी ।

देखना, कैसे तिलमिला जाएगा चीन । पीछे लौट जाएगा, मुझको पक्का है यकीन ।

जला के आग बैठ गए बापू चौराहे पर । आती होगी भीड़ की भीड़ मेरे एक इशारे पर । 

सुबह से शाम हो गयी, शाम से रात हो गयी । एक परिंदे ने भी पर नहीं मारा । कैसी  गज़ब की बात हो गयी ।

सुनती हो ...क्या मेरी आँखें इतनी कमज़ोर हो गयी जो एक भी इंसान की सूरत नहीं दिखाई दे रही ? कान के पर्दों की हालत इतनी बदतर हो गयी, जो एक भी आवाज़ सुनाई नहीं दे रही ?।

जलते - जलते आग कम से कमतर होती गयी । धीरे धीरे बुझती चली गयी, राख का ढेर लग गया ।  मन के साथ -साथ बापू का दिल भी बुझ गया ।

अभी - अभी तो मुल्क आज़ाद हुआ था ।

अभी अभी तो सुखद सा एहसास हुआ था । 

इतनी जल्दी मेरे देश को ये क्या हो गया ?
 
बताओ बा ! मेरा भारत क्यूँ इतनी जल्दी सो गया ?

औरत, और ही मिट्टी की बनी होती है इसीलिये दुनिया का तौर जल्द समझ लेती है । 

बोली बा ....कहा था न मैंने - बहुत पछताओगे । धरती पर जा तो रहे हो लेकिन हाथ मलते रह जाओगे ।

वो लोग और थे । वो जज़्बे और थे ।

तब लोग समझदारी की बात करते थे । अब लोग खरीदारी की बात करते हैं ।

अंग्रेजों का बहिष्कार आसान था । कपड़ों का बाज़ार भी सुनसान था ।

घर - घर में चरखे थे । लोग कपडे बुनते थे । तब कपड़ों से तन ढके जाते थे । अब कपड़ों के बोझ से घर ढक  जाते हैं । 

अब अगर तुम्हारे कहने से लोग बाहर आएँगे, तो क्या छोड़ेंगे और क्या जलाएंगे ? इनके घरों में झांकोगे तो तो आँखें खुली की खुली रह जाएंगी ।

सुई से लेकर रुई तक, टी वी से लेकर सेल फोन तक छोटी - बड़ी हर वस्तु पर मेड इन चाइना का लेवल चिपका मिलेगा । घर से लेकर बाज़ार तक चीन का दौड़ता हुआ सिक्का मिलेगा । 

जिस बाज़ार पे खड़े हो तुम होली जला के , इतनी रात को भी कितना गुलज़ार है । देखो गौर से,  इसका तो नाम ही चाइना बाज़ार है । 


अब तो होली के रंग भी चीन से आते हैं । दीपावली पर दिए भी उसी की कृपा से जल पाते हैं । ईद और क्रिसमस भी इससे अछूते नहीं रह गए । उफ़.... तुम्हारी जल्दबाजी में मेरे चाइनीज़ जूते घर में ही रह गए । 

रक्षाबंधन की राखी हो या जन्माष्टमी की झांकी । झालर हों या बंदनवार, बिन चाइनीज़ आइटम अधूरा सा लगे हर त्यौहार । 

कैसी भी हो दावत, बिना चाउमीन अधूरी समझी जाती है, बच्चा, बूढा या हो जवान, सबकी प्लेटों की शोभा बढ़ाती है । हर ठेले, हर मेले, हर होटल, हर दुकान में उसका होना अनिवार्य है ।  हर धर्म के लोगों को यह सहर्ष स्वीकार्य है । 

दुकान में जाओ तो ओरिजनल से ज्यादा डुप्लीकेट मिलता है । दुकानदार कहता है यहाँ तो बस यही बिकता है और यही चलता है । लेना है तो लो वरना फ़ौरन आगे बढ़ो । 

मान भी जाओ अपनी हार । चाइनीज़ आइटमों से पटा हुआ है बाज़ार ।  सस्ता रोये बार - बार, महंगा रोए एक बार वाली कहावत प्यारे भारतवासियों के पल्ले नहीं पड़ती है । बार - बार रोने की आदत हो जिसको, उसको यह बात अच्छी नहीं लगती है ।  
  
 अब दुःख मत मनाओ, शोक के गीत मत गाओ । 

ज्यादा देर लगाओगे ....तो देख लेना, कहे देती हूँ ..तुम भी चाइनीज़ आइटम समझ लिए जाओगे और चाइना बाज़ार की किसी दुकान में शो केस के अन्दर रखवा दिए जाओगे । 

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार के "रेवडियाँ ले लो रेवडियाँ" (चर्चा मंच-1230) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेड इन चाइना दिल शायद ज्यादा न चल पाए | बढ़िया लेख |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज्यादा देर लगाओगे ....तो देख लेना, कहे देती हूँ ..तुम भी चाइनीज़ आइटम समझ लिए जाओ

    ---गज़ब गज़ब!! नतमस्तक इस लेखनी पर!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अभी सभी लाइनें व्यस्त हैं...सभी २०१४ की ओर जा रही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. निहायत ही शानदार व्यंग बाण, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. चाईना घर में घुसा हुआ बैठा है.. और सरकार के कारिंदे ये तेरा भ्रष्टाचार ये मेरा नहीं.. में लगे हुए हैं..

    शर्म आती है कि हमारे भारत की सरकार ऐसी है..

    उत्तर देंहटाएं