बुधवार, 28 अगस्त 2013

बता फिर … क्यूँ न हो उसका बलात्कार ? क्यूँ न हो उसकी इज्ज़त तार - तार ?




उसका बलात्कार होगा  ....

वह आकाश में उडती है । पानी में तैरती है | उसने पर्वतों पर जीत की पताकाएँ फहराईं हैं ।
अन्तरिक्ष ने उसके हौसलों की गाथाएं गाईं हैं । भीग गया पर फिर भी परवाज़ किया उसने । टूट गया दम फिर भी आगाज़ किया उसने ।

उसका भी होगा बलात्कार ….

वह कायदों पे चलती है । नियम - ओ - क़ानून - से रहती है ।  उसूलों पर कड़क रहती है । हिम्मत के इतिहास में नित नया अध्याय लिख रही है । सही को सही, गलत को गलत कह रही है । जब पडी ज़रुरत, रणचंडी सा रूप धरा उसने । किसी कीमत पर भी समझौता न किया उसने । आज उसके आगे सिर झुकाना मजबूरी है | घर हो या बाहर, उसकी उपस्थिति हर हाल ज़रूरी है ।

 उसका भी होगा बलात्कार ....

उसके हाथों में स्कूटर, मोटरसाइकिल, जहाज और कार है | ऊँचे से ऊँची नौकरी, बड़े से बड़ा व्यापार है  | बैंक बैलेंस तगड़ा है, घर है कोठी है, बँगला है । पुरुष के वह कंधे से कन्धा मिलाती है । उसका सहारा लेकर उससे भी आगे बढ़ जाती है । हर बड़े पद पर उसकी सूरत दिख जाती है । रात - दिन जी तोड़ काम करती है । मेहनत को उसकी सारी दुनिया सलाम करती है । 


उसका भी होगा बलात्कार ...


उसने अकेले बच्चों को पाला । माँ - बाप, भाई - बहिन को सम्भाला  | सास - ससुर को मान दिया । रिश्तेदारों को सम्मान दिया । सबके सुख - दुःख में काम आती है । सारे रिश्ते, सारे नाते अकेले निभा ले जाती है । अब उसका भी अपना एक नाम है । कहीं  - कहीं तो पत्नी का नाम ही पति की पहिचान है ।


उसका भी होगा बलात्कार ...

वह इतनी मगरूर है । पिट जाने पर भी बोलती ज़रूर है | उसके मुंह पर जुबां आ गयी है ।  समझने और सोचने की अक्ल आ गयी है | खुद पर उठते हाथों को रोक लेती है | गलत हो कोई तो भरी सभा में टोक देती है | अधिकार की बात करती है | काम के बदले पगार की बात करती है । हर बात पर तर्क करती है । अच्छे - बुरे पर खुद फर्क करती है ।

उसका भी होगा बलात्कार ....

वह लजाती, शर्माती, सकुचाती नहीं है | चूहे, कॉकरोच, छिपकली से भय खाती नहीं है | खाट की तरह अब बिछती नहीं है । दबी, कुचली, डरी, सहमी दिखती नहीं है | अपने शरीर पर अपना हक़ मांगती है । गंदी से गंदी नज़र को झेलती है । तेज़ाब से जब जल जाती है, शक्लो - ओ - सूरत तक गल जाती है, फिर भी जुल्मो - सितम की दास्ताँ दुनिया को बतलाने बाहर निकल जाती है । 


उसका भी होगा बलात्कार ....

पढ़ाई को शादी पर अब कुर्बान नहीं करती । नौकरी की कीमत पर समझौता नहीं करती ।  ना आए पसंद तो रिश्ता वापिस कर देती है | दहेज़ नहीं मिलेगा, पहिले ही साफ़ कर देती है । भरे मंडप से बारात को लौटा देती है । लोभियों को हथकड़ी पहना देती है । पैर किसी के अब पड़ती नहीं है । उठाकर सिर, बना कर राह अपनी, शान से निकल पड़ती है ।

उसका भी होगा बलात्कार ...

उसे समाज का डर नहीं रहा । अलगाव का भय नहीं रहा | अपने दम पर घर चलाती है । लेना हो तलाक ज़रा सा भी हिचकिचाती नहीं है । घुट - घुट कर जीना किसी हाल भी अब चाहती नहीं है । लोगों की नज़रों से लड़ना उसको आ गया । कितने भी कठिन हों ज़िंदगी के सवाल, अकेले हल करना आ गया ।


बता फिर … क्यूँ न हो उसका बलात्कार ? क्यूँ न हो उसकी इज्ज़त तार - तार ?
     

9 टिप्‍पणियां:

  1. कोई वजह , कोई कोना , कोई सवाल , कोई स्थिति , कुछ भी तो नहीं छोडा आपने माहटरनी । एकदम सीधा सीधा बेध डाला है ....ये अपराध तो अब भ्रष्टाचार सरीखा ही देश और समाज की नियति बनता जा रहा है । धार बनाए रखिए और झकझोरते रहिए यूं ही ........

    उत्तर देंहटाएं
  2. सामाजिकता के सारे तार चीरती, व्यथा कथा। पता नहीं किस दिशा जा रहे हैं हम।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद मानवता ही रास्ता भटक चुकी है. सटीक.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं