मंगलवार, 18 फ़रवरी 2014

यह तो होना ही था केजरीवाल जी !

यह तो होना ही था केजरीवाल जी ! सरकार ऐसे ही थोड़े चलती है । आपकी नीतियां शुरू से ही गलत रही थीं, जिसका खामियाज़ा आपको यूँ भुगतना पड़ा ।  

आपको अभी बहुत कुछ सीखने की ज़रूरत है । आपके पास उपयुक्त शब्दावली का अभाव है । आप दिल से बात करते हैं हम दिमाग से सुनते हैं । आपको नेताओं के लिए बनाए गए शब्दकोष का भली - भाँति अध्ययन करके आना चाहिए था । इसमें  ---निश्चित रूप से, कहीं न कहीं , हम देख रहे हैं, नो कमेंट, मामला हमारे संज्ञान में अभी नहीं आया, उचित कार्यवाही की जायेगी, विपक्ष का षड्यंत्र है, मेरे बयान को तोड़ - मरोड़ कर पेश किया गया, मामला कोर्ट में विचाराधीन है, जैसे नामालूम कितने ही खूबसूरत शब्द थे, आपने उनकी अनदेखी करी, जिसका परिणाम आपको भुगतना पड़ा ।  

आपकी शुरुआत ही गलत हुई ? आपने जनता से एस.एम्.एस.करके, उनके बीच सभाएं करके राय मांगी कि सरकार बनानी चाहिए या नहीं । ऐसा कभी देखा गया न सुना गया । जनता कौन होती है आपको यह बताने वाली ? जनता का काम वोट देना है बस । दरअसल जनता को वोट के बदले या तो नोट लेने की आदत है या चोट खाने की आदत है । उसके एस.एम्.एस.का दुरूपयोग हुआ । अपने कीमती एस.एम्.एस.से वह अपना बिग बॉस चुन रही थी, बेस्ट डांसर ढूंढ रही थी, बेस्ट गायक तलाश रही थी, बेस्ट कुक के लिए और बेस्ट सीरियल के लिए वोट कर रही थी । इतनी ज़िम्मेदारियों के बीच आपने सरकार बनाने के लिए राय माँगी तो वह अचकचा सी गयी थी और इसी दुविधा में उसने आपको सरकार बनाने की राय दे डाली होगी ।  

आपकी पार्टी की नीतियां स्पष्ट नहीं है । विदेश नीति, अंतर्राष्ट्रीय नीति, कश्मीर समस्या, पकिस्तान और चीन जैसे पड़ोसी के साथ सम्बन्ध, आर्थिक नीतियां, आतंकवाद, अमेरिका, विकास दर, नक्सल समस्या, माओवाद, जैसे अनेकानेक मुद्दे थे, जिन पर आप जनता को सालों तक उलझा सकते थे । आप आम आदमी की समस्याएं लेकर बैठ गए । जबकि आम आदमी ने अपनी समस्याओं को समस्या मानना ही छोड़ दिया था । ये आपकी ही गलती थी कि आपने उसे याद दिलाया कि जिन्हें वह महबूब के प्रेमपत्रों की तरह सीने से लगाए हुए है उसे समस्या कहते हैं ।  

आपने जनता दरबार लगाना चाहा जो कि बिलकुल ही वाहियात प्रयोग रहा । जनता की इतनी समस्याएं हैं कि उन्हें सुनते - सुनते आप छत पर तो क्या अंतरिक्ष में भी चलें जाएंगे, नहीं सुन पाएंगे । आपको हुज़ूर दरबार लगाने चाहिए थे, अपने आस - पास चापलूसों की फ़ौज़ खड़ी करनी चाहिए थी । आपके आस - पास चमचों की भीड़ रहती तो आपको किसी किस्म की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ता । आम आदमी की निष्ठा सदा से संदिग्ध रही है । जबकि चापलूस कभी अपना व्यक्तित्व कभी नहीं बदलते । वे जहाँ भी रहते हैं अपने हुज़ूर को खुश रखते हैं । चापलूस आपके तारणहार ही नहीं खेवनहार भी सिद्ध होते । पांच साल तो चुटकी बजाते ही कट जाते । 

आपने धरना दिया । आपकी आलोचना हुई । आलोचना करने वाले समझ नहीं पा रहे थे कि आलोचना असल में करनी किसकी है ? धरने की या आपकी ? या आपके द्वारा किये जा रहे धरने की ? आप लाख कहते रहें कि आप आम आदमी हैं, जैसा कि आपकी टोपी पर भी लिखा गया है, तब भी आपको आम आदमी नहीं माना गया । अगर मानते होते तो इतना बवाल नहीं मचता । क्यूंकि आम आदमी और धरना - प्रदर्शन तो एक तरह से पर्यायवाची शब्द हैं । धरना भी इतनी सी मामूली बात के लिए कि मंत्री का आदेश न मानने वाले दोषी पुलिस वालों को सस्पेंड किया जाए । इसके बदले आपको यह करना चाहिए था कि उन पुलिस कर्मियों को थोड़े समय के लिए स्टडी टूर पर विदेश भेज देते, जहाँ वे विभिन्न देशों की कानून - व्यवस्था का अध्ययन करते और अपने अनुभवों से राज्य के अन्य अफसरों को भी लाभान्वित करते । इस तरह बारी - बारी से सभी स्टडी टूर में जाते रहते । आपके राज्य में खुशहाली छाई रहती । 

आप मफलर ओढ़े रहते हैं जबकि आपको गैंडे की खाल ओढ़नी चाहिए थी । कोई कुछ भी कह देता आपको कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए था । ज़रा - ज़रा सी बात पर आप माफी मांगने लग जाते हैं । माफी माँगना इंसान की कमज़ोरी को दर्शाता है । इस मामले में आपको अपने पड़ोसी राज्यों से सीख लेनी चाहिए थी । आपके पड़ोसी राज्यों में दंगों में कई लोग मारे गए फिर ठण्ड का निवाला बने । क्या उनको माफी मांगते हुए किसी ने देखा ? राज्य के सारा महकमा खोई हुई भैंसे ढूँढता रहा । क्या किसी के माथे पर भूले से भी शिकन आई  ? 

आपने आते ही सबकी लाल बत्तियां बुझा दीं । जबकि आपको सत्ता सँभालते ही लाल बत्तियां बांटनी चाहिए थीं । लाल बत्तियां सरकार के लिए संकटमोचक होती हैं । जिसने भी ज़रा सा मुंह फुलाया या नाक सिकोड़ी, उसे लाल बत्ती थमा देने से संकट टल जाता है । आपके कुछ  विधायकों के पार्टी से मोहभंग होने प्रमुख  कारण यह भी रहा । लाल बत्तियां होतीं तो विरोधी पार्टियों के विधायक भी आपकी पार्टी में कच्चे धागे से खिंचे चले आते । 

आपके मंत्रियों को सरकार चलाने का ज़रा भी अनुभव नहीं है । पिछली कुछ घटनाओं से इस बात को बल मिलता है कि वे बिलकुल अव्यवाहरिक हैं । आपके मंत्री राजनीति नहीं जानते । राजनीति क्या वे तो रातनीति भी नहीं जानते । जो काम दिल के उजाले में भी नहीं किये जाते, उन्हें वे रात को करते हैं वह भी कैमरों के साथ । और तो और वे रात के अँधेरे में वहाँ रेड डालने जाते हैं, जहाँ उन्हें खुद होना चाहिए था ।

आपका कहना है कि आपने दिल्ली वालों के लिए दिन - रात काम किया । यहाँ भी आप चूक गए । सरकार चलना हो या सरकारी नौकरी करनी हो, दोनों का मूलमंत्र एक ही होता है - सदा व्यस्त दिखो लेकिन करो कुछ मत । काम करने वाले से सभी की अपेक्षाएं बढ़ जाती हैं । निकम्मे आदमी, सरकार हो या नौकरी, आराम से निभा ले जाते हैं ।  

आपका उद्देश्य ही गलत था । आप भ्रष्टाचार के खिलाफ जीत कर आए थे । और भारत का आम इंसान भ्रष्टाचार के साथ जीने का इतना आदी हो चुका है कि उसके बिना जीने की कल्पना से ही घबराने लगता है । पहले दफ्तरों के चक्कर काटने से रिटायर्ड लोगों का समय कट जाया करता था, दफ्तर के बाबुओं, चपरासियों से अपनापा हो जाता था , चाय पीने - पिलाने में  दिन कट जाया करता था । अब वही रिटायर्ड लोग खाली हो गए और उनके घर में दिन रात झगड़ा होता रहता है । 

आपको देश के कानून पर भरोसा नहीं है । आप कानून का, संविधान का उल्लंघन करते हैं । क़ानून के हाथ बहुत लम्बे होते हैं । वे वहाँ से तक क्लीन चिटें निकाल लाते हैं जहाँ से कोई सोच भी नहीं सकता है । बाईस साल बाद ही सही, राजीव गांधी के हत्यारों को उम्र कैद तो हुई ही । आपकी भी आवाज़ देर सबेर सुन ही ली जाती । आपके अंदर धैर्य का सर्वथा अभाव देखा गया । 

जिस प्रकार लड़की के जन्म के साथ ही उसका पिता उसका दहेज़ जुटाने लग जाता है, उसी प्रकार दिल्ली वासी भी अपने बच्चों के जन्म से पहले ही स्कूलों में एडमिशन के लिए डोनेशन की रकम जमा करने लग जाते हैं । पैसे जमा करने के तनाव में दिल्लीवासी को कोई समस्या दिखाई ही नहीं देती थी । बिजली, पानी को भूल कर वह सिर्फ मिशन एडमिशन में जुटा रहता था । इस प्रकार वह फ़िज़ूलखर्ची से भी बच जाया करता था । आपने नर्सरी में डोनेशन बंद करवा दिया । जिससे आम आदमी एकदम से खाली हो गया । उसका पैसा बच गया । अब दिमाग खाली हो और पास में पैसा भी बचा हुआ हो तो आदमी का ध्यान इधर - उधर जाना स्वाभाविक है । ऐसे में वह आपकी सरकार की ओर गौर से लगा और आम आदमी जब किसी की ओर गौर से देखने लग जाए तो इसे खतरे की घंटी मानना चाहिए ।  

सांस्कृतिक दृष्टि से भी आपकी उपलब्धियां शून्य रहीं । इन उन्चास दिनों में दिल्ली में एक भी महोत्सव का आयोजन नहीं हुआ । सलमान, माधुरी के ठुमके देख कर ठण्ड से अकड़ते जिस्मों में कैसी गर्मी आ जाती है, ये आप क्या जानो केजरी बाबू ? 

आप एफ़.आई.आर.लिखवा रहे हैं वह भी उनके खिलाफ, जिनकी जेब में सरकार रहती है । जिसकी भरी हुई जेब में डाका डाला जाएगा वह भला चुप क्यूँ रहेगा ? वे कोई आम आदमी थोड़े ही थे कि जिसकी जेब कट भी जाए तो उसे उतना अफ़सोस नहीं होता क्यूंकि उसकी जेब में सरकार नहीं बल्कि सौ - दो सौ रूपये, राशन के बिल, पत्नी की फोटो, डॉक्टर की पर्ची या छुट्टी की एप्लिकेशन पडी रहती है ।    

इंसान के सीने में आग भले ही न हो लेकिन अगर वह घाघ है तो उसका कोई कुछ बिगाड़ नहीं पाता । राजनीति में पारदर्शिता से अधिक आवश्यकता खारदर्शिता की होती है । अपने पड़ोसी उत्तराखंड को ही देख लेते । इस नए राज्य में इतने मुख्यमंत्री बन चुके हैं कि रोज़ एक आशंका बनी रहती है कि कल सुबह जब हम आँख खोलेंगे तो पता नहीं कौन मुख्यमंत्री होगा । आप हर राज्य से थोडा - थोडा भी सीखते तो किसी किस्म की परेशानी में नहीं फंसते । जनलोकपाल बिल कैसे लाया जाता है यह तेलंगाना के लिए लाए गए बिल से सीखते । 

आपका स्वयं इस्तीफ़ा देना वैसे ही है जैसे लड़के वाला होकर भी लड़की वालों को दहेज़ देना । राजनीति के इतिहास को आपने ढंग से देखा होता तो पता चलता कि इस्तीफ़ा मांगने की चीज़ होती है, देने की नहीं । 

इन उन्चास दिनों में कई लोग गरीब हो गए जिनमें पुलिस वाले, डोनेशन लेने वाले, रिश्वत लेने वाले भी शामिल थे । आपकी सरकार को इन्हीं गरीबों की हाय लग गयी । गरीबों की हाय क्या -क्या कर सकती है इस पर कबीर दास जी विस्तार से प्रकाश डाल गए हैं । 
 
पहाड़ के रास्तों में जगह - जगह सिशून के पौधे लगे रहते हैं,  इसके पत्ते उलटे भी चुभते हैं और सीधे भी चुभते हैं । ऐसे सिशून के पत्ते अब हर जगह उगने लगे हैं ----

आप आंदोलन करेंगे तो ये कहेंगे '' आंदोलन तो हर कोई कर सकता है, ज़रा चुनाव लड़के, सिस्टम में आके देखो तब पता चलेगा ''

आप चुनाव लड़ेंगे और सिस्टम में आएँगे तो ये कहेंगे '' आंदोलन करने वालों को सिस्टम में नहीं आना चाहिए, इससे आंदोलन की पवित्रता भंग होती है ''। 

आप अल्पमत के चलते सरकार नहीं बनाना चाहेगे तो ये कहेंगे '' देखो कैसे लोग हैं ? सरकार बनाने से डर रहे हैं , दिल्ली को दुबारा चुनाव में धकेल रहे हैं ''। 

आप सरकार बना लेंगे तो ये कहेंगे '' धिक्कार है ! कैसा आदमी है '' जिनको गाली देता था उन्ही के सहयोग से सरकार बना रहा है ''। 

आपने अपने बच्चों की कसम खाई थी कि न भाजपा से समझौता करेंगे न कॉंग्रेस से । इस पर ये कहेंगे '' कैसा आदमी है, 'एक नेता के लिए देश बड़ा होना चाहिए या अपना परिवार ''। 

आप सहयोग ले लेंगे तो कहेंगे ''थू ! थू  ! कैसा पिता है अपने ही बच्चों की झूठी कसम खाता है '' । 

आप जनता की राय मांगेंगे तो ये कहेंगे '' अजीब लोग हैं ! हर काम जनता से पूछ कर करेंगे क्या ''?

जनता से नहीं पूछेंगे तो कहेंगे '' ये कैसी आम आदमी की सरकार है, जनता की राय की कोई अहमियत ही नहीं ''।  

आप सरकारी बंगला लेंगे तो ये कहेंगे '' वाह ! आम आदमी सरकारी बंगले में रहता है क्या ? कहते कुछ है और करते कुछ है ''। 

आप उससे छोटा बंगला लेंगे तो कहेंगे '' आम आदमी क्या बंगले में नहीं रहते हैं ? केजरीवाल नौटंकी करता है ''। 

सरकार चलाएंगे तो कहेंगे '' कहाँ गया जनलोकपाल, जिसको लेकर इतना बड़ा आंदोलन किया ''?

जनलोकपाल बिल लाएंगे तो कहेंगे '' ये कोई समय है, ये कोई तरीका है जनलोकपाल बिल लाने का ''?   

आप कुछ काम करके अपने किये वादों पर अमल करना चाहेंगे तो ये हँसेंगे  '' देखो ! आखिरकार इनका कुर्सी लालच सामने आ ही गया । कैसे कुर्सी से चिपक गए '' ?

आप इस्तीफ़ा देंगे तो कहेंगे '' देखो भगोड़े, कायर, रणछोड़दास को । सत्ता संभालनी इसके बस  की बात नहीं थी, बहाने ढूंढ रहा था इस्तीफ़ा देने के ''।    

ये सिशून के पत्ते .......... 



24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (19-02-2014) को भैया भ्रष्टाचार भी, भद्रकार भरपूर; चर्चा मंच 1528 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. नेता का यह गुण है कि सबसे विचार विमर्श तो करे पर निर्णय स्वयं ले और उसका उत्तरदायित्व स्वयं ले।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सिशूण के पत्ते
    आगे भी काँटे
    पीछे भी काँटे
    पानी में भिगोकर
    लगने चाहिये
    साथ में चाँटे :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. शेफाली जी,

    शब्द नहीं हैं मेरे पास, जो आपने लिखा है बिलकुल वही मेरे अन्दर चल रहा है, बेहद सुंदर प्रस्तुति और करारा जवाब दिया है आपने उस भगौड़े और कायर केजरीवाल को जिसने सोचा की वो लोगों के लिए लड़ेगा और हम उसे लड़ने देंगे और खुलेआम आम आदमी की जीने देंगे, उसको कोई हक नहीं है हमारी रोज़मर्रा की तकलीफों को राष्ट्रिय मुद्दा बनाने का... क्या सोचा उसने की हम विरोध नहीं कारेंगे? क्यों नहीं करेंगे? जरूर करेंगे...और जबतक उसको भ्रष्टाचारी, भगौड़ा और देशद्रोही साबित नहीं कर देंगे तबतक चैन से नहीं बैठेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. क्या पता वह दिन भी देखना पड़े ...आम आदमी अभी भी सोया है ...उंगली मत कर ...मत जगा उसे ...अगर जगाना है तो उसके लिए ऊंचे ऊंचे मंच बनवाओ चाय पिलाओ, सपने दिखाओ ..सपने को सपने ही रहने दो कजरी बाबू ..
      इस पोस्ट का और भी प्रचार प्रसार होना चाहिए इसे फसबुक पर कॉपी पेस्ट करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़े, समझें और करें ... सादर

      हटाएं
    2. क्या पता वह दिन भी देखना पड़े ...आम आदमी अभी भी सोया है ...उंगली मत कर ...मत जगा उसे ...अगर जगाना है तो उसके लिए ऊंचे ऊंचे मंच बनवाओ चाय पिलाओ, सपने दिखाओ ..सपने को सपने ही रहने दो केजरी बाबू ..
      इस पोस्ट का और भी प्रचार प्रसार होना चाहिए इसे फसबुक पर कॉपी पेस्ट करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़े, समझें और करें ... सादर

      हटाएं
  5. बहुत बढ़िया व्यंग! क्या बात है !ये तो होना ही था!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम्म्म,,,,, शब्दो से आपने रंग दिया……बहुत खूब…!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. शेफाली जी , आपका यह लेख एक बार पढना शुरू किया तो बस पढ़ती ही चली गयी...बहुत खूब लिखा है आपने..बहुत बारीकी से सभी घटनाओं पर कटाक्ष भी किये हैं और सच्चाई को उघाड़ दिया है., बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच लिखने की जितनी तारीफ़ की जाय कम है बहुत सुन्दर व्यंग्य ,. आपकी भेदक दृष्टि को आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Ye wo log hai jo change nhi chahate. ye wo hai. arvind in one of best leader

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी इस प्रस्तुति को आज की छत्रपति शिवाजी महाराज की ३८४ वीं जयंती और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. madam aapne na to congress par kabhi lekh likha na kabhi BJP par....bas AAP par hi kyun???paise mile hong en :D...kya krein aapka v dhanda h ye ...likhti rho bechti rho desh ko...kro janta ko gumrah...ek din jnta aapka blog padhna abnd kr degi tab congress join kr lena

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये एक धोखा है .
    हमको ऐसा CM नहीं चाहिए जो आरोप लगाये और भाग जाये.
    आरोप आप पर भी लगे हैं और आपने भी उनका जवाब नहीं दिया .
    आपको ५ साल सरकार चलने का मौका मिला था आप लोकसभा देखने निकल पड़े .
    क्या जनलोकपाल अगले 2 महीनो में तरीके से नही आ सकता था .?
    और भी काम थे केजरीवाल जी .
    आप मानो न मानो आप भले ही बाते आम आदमी की करते हो पर आपकी नीयत भी अच्छी नहीं है करम भी अच्छे नहीं हैं.
    आपने ईमानदारी और बेमानी का सर्टिफिकेट देने की दुकान खोल रखी है.
    आपके पास साबुत हैं तो जैल क्यों नही भिजवाते इन लोगो को.
    या ऐसे आरोप आप पर भी लग सकते हैं की आपने जो सब्सिडी के नाम पे बिजली कम्पनियों को पैसा दिया है उसमे ५०% कमीशन आपका भी है.
    आप साबित करो ये गलत है.
    आप पर से आम जनता का ही भरोसा उठ गया है. जिसके नाम की आप राजनीती करते हो.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये एक धोखा है .
    हमको ऐसा CM नहीं चाहिए जो आरोप लगाये और भाग जाये.
    आरोप आप पर भी लगे हैं और आपने भी उनका जवाब नहीं दिया .
    आपको ५ साल सरकार चलने का मौका मिला था आप लोकसभा देखने निकल पड़े .
    क्या जनलोकपाल अगले 2 महीनो में तरीके से नही आ सकता था .?
    और भी काम थे केजरीवाल जी .
    आप मानो न मानो आप भले ही बाते आम आदमी की करते हो पर आपकी नीयत भी अच्छी नहीं है करम भी अच्छे नहीं हैं.
    आपने ईमानदारी और बेमानी का सर्टिफिकेट देने की दुकान खोल रखी है.
    आपके पास साबुत हैं तो जैल क्यों नही भिजवाते इन लोगो को.
    या ऐसे आरोप आप पर भी लग सकते हैं की आपने जो सब्सिडी के नाम पे बिजली कम्पनियों को पैसा दिया है उसमे ५०% कमीशन आपका भी है.
    आप साबित करो ये गलत है.
    आप पर से आम जनता का ही भरोसा उठ गया है. जिसके नाम की आप राजनीती करते हो.

    उत्तर देंहटाएं
  14. how many SMS poll Kejri did while he was CM .. but then again these dimwits voted Congress for 60 years.. Pahari asswipes voted Bahuguna over Khanduri.. can't expect rationality with them.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
    हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।
    But just good sentiments only are not enough leaders.Bad Govt by V P Singh should not be forgotten.
    Very good article however.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अरे वाह ! इस बार आपके कटाक्ष का शिशोंड़ बहुत से लोगो को हिला गया।

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरे वाह ! इस बार आपके कटाक्ष का शिशोंड़ बहुत से लोगो को हिला गया।

    उत्तर देंहटाएं