बुधवार, 20 फ़रवरी 2013

तुम कहती हो तो मान लेते हैं सखी ! कि इसको बसंत कहते हैं ।

आयो नवल बसंत ......

सखी,
हर तरफ फूल, पौधों, पेड़ों और पत्तियों में नई सरसराहट है । एक नए ताजातरीन घोटाले की आगमन की बहुत तेज़ सुगबुगाहट है ।देखना है त्यागियों के त्याग अब क्या रंग लाएंगे । हैलीकॉप्टर के अन्दर फंस गए हैं जो, उनके पंख अब देखें किस दिशा में फड़फड़।एंगे । जल, थल के बहुत देख लिए तमाशे,
अब वायु सेना के कारनामे सबका मन बहलाएँगे ।

सुन सखी ! कहते हैं कुम्भ की नगरी बहुत ही पावन है । छटा यहाँ की बहुत मनभावन है । इसमें एक डुबकी लगाओ तो जितने भी हों कष्ट और पाप, सब पानी में घुल जाते हैं । और अगर एक साथ पहुँचो तो डाइरेक्ट मोक्ष के द्वार खुल जाते हैं । ' मन चंगा तो कठौती में गंगा ' क्या खूब कहा गया है । रोज़ पाप के सागर में गोते लगाने वाला भी इसमें आकर नहा गया है । हर तरफ आम आदमी की जान पर आफत है । पुण्य बटोरने की ये कैसी व्याकुलता और हडबडाहट है ?

सखी ! गौर से देख और बता ! यह संगम का पानी इतना क्यूँ थरथरा रहा है ? कोई -छोटा  मोटा कंकड़ तो नहीं हो सकता, लगता है किसी ने बहुत बड़ा सा पत्थर,पूरी ताकत के साथ मारा है । उफ़ ! शायद कोई बड़े - बड़े नोटों के बण्डल वाला, हाथ में कमंडल और तन पे भगवा पहिनने वाला, फिर से महा बण्डलेश्वर  बनने जा रहा है । हे ईश्वर ! तुझ पर मेरी आस्था, मेरा विश्वास कभी कम ना होने पाए । पर तेरे इन प्रतिनिधियों को देख कर मेरा जिया बहुत घबराए ।

सखी ! देख चारों ओर कितना सुहावना मौसम है । सरसों से धरती, खलिहान और बचे - खुचे खेतों के, फंदों के डर से बलात्कारी, अपराधी और डकैतों के, चेहरे पीले हो रहे हैं । धडाधड फांसियों पर फैसले, चुनाव की आहट नज़दीक सुनाई देती है । आतंकियों और उनके आकाओं में, कुछ मानवाधिक्कार कार्यकर्ताओं में अजब सी छटपटाहट
दिखाई देती है ।

सखी ! इस  फरवरी के मौसम ने अपना मिजाज़ बदल लिया लगता है । वी वी. आईपीयों की सुरक्षा में कटौती की खबर से इसका दिल दहल गया लगता है । उनके पीछे चलते काफिले अब कम हो जाएँगे । उनकी सेवा में तैनात जवान अब खुल के साँस ले पाएंगे । माननीयों के मन में बौखलाहट सी भर गयी है । अब सुरक्षा आम आदमी को मिल सकेगी, उसके मन में उम्मीद की झिलमिलाहट सी दिख रही है ।

सखी ! मेरा हाल पूछती हो तो सुन लो । इस मधुमास पर, मौसम - ए - ख़ास पर, इनकम टैक्स भारी पड़ गया । निवेश, बांड, पी पी एफ़, जेब खाली कर गया । चार पैसे बचाने में, चैन की नींद हराम हो गयी । सुरमई, मखमली शामें, कलह - क्लेश के नाम हो गयी । बच्चों की फीस दो - दो महीने की जब देनी पड़ गयी थी । उड़नछू हो गया था प्रेम प्यार, दिल में टीस गड़ गयी थी ।

यह मधुमास साल भर कहाँ चादर ताने सोता है ? हमारे जैसों के लिए यह मास पॉलिसी बेचने वालों के नाम होता है । सखी !  नाना प्रकार के एजेंटों के आक्रमणों से बच पाना आसान नहीं है । कामदेव से कह दो, उसके बाणों का यहाँ कोई काम नहीं है ।  

यह मास गले की फांस है । हाथ दोनों तंग रहते हैं । तुम कहती हो तो मान लेते हैं सखी ! कि इसको बसंत कहते हैं ।










9 टिप्‍पणियां:

  1. आज 21/02/2013 को आपकी यह पोस्ट (संगीता स्वरूप जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी तो कुम्भ चल रहा है, पाप धुल ही जायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बासंती मौसम का बेहद सटीक व्यंग, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...शानदार अभिव्यक्ति ....आपको धन्यवाद ............
    आप भी पधारो आपका स्वागत है ....pankajkrsah.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. वसंत के रंगों के पीछे की बदरंगी....

    अच्छी रचना.
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. जय हो! जय हो! क्या अंदाज-ए-बयां हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतना सब कुछ होने पर भी वसंत है। और आपको वसंत पंचमी की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं